difference-between-acting-and-voice-acting

Acting और Voice acting में क्या फर्क होता है ?

Difference Between Acting And Voice Acting

सबसे पहले बात करे अगर एक्टिंग की तो –
फिल्म में किसी किरदार को निभाना एक्टिंग कहलाता है। मतलब फिल्म में किसी भी रोल को प्ले करना
एक्टिंग कहलाता है । एक्टिंग के अंदर बॉडी-लैंग्वेज, चेहरे का हाव-भाव, आवाज सब कुछ उस
किरदार के साथ मैच करना चाहिए। वही हम voice Acting की बात करे तो voice Acting
का मतलब है सिर्फ आवाज के सहारे उस किरदार को निभाना।

अब सवाल ये है की ये VOICE ACTOR का काम क्या होता है ?क्यों की फिल्म में तो पहले से एक्टिंग के लिए एक्टर होते हैं ।

साधारण एक उदाहरण देकर की इस बात को स्पष्ट करते हैं-

आपने काफी सारे हॉलीवुड की फिल्मे हिंदी में देखे होंगे और अगर नहीं देखे हैं तो इंटरनेट पे जा कर
देखे काफी सारे फिल्म कई अलग-अलग भाषाओ में रिलीज हुई है जबकि हॉलीवुड की
फिल्मे तो हिंदी में बनती नहीं है या फिर हॉलीवुड के आर्टिस्ट को उतनी अच्छी हिंदी भी
नहीं आती है तो ये कैसे हुआ ? यही पे काम आता है Voice actor का ।
Voice actor वो लोग होते हैं जो अपने आवाज के जादूगरी से किसी भी
भाषा में बानी फिल्म को किसी और भाषा में अनुवाद करने में मदद करते हैं और
उस भाषा के दर्शक के लिए फिल्म को और रुचिकर बना देते हैं।

डबिंग

Voice actor का ही कमाल है जो आप किसी भी अलग भाषा में बनी फिल्मे
अपनी भाषा में देख पाते हैं ।दूसरा सबसे बड़ा काम ये वौइस् एक्टर ये भी करते है जब
कोई बड़े एक्टर एक साथ काफी सारे फिल्मे करते है तो उनके पास समय की कमी हो जाती है
और फिल्म में एक प्रोसेस होता है जिसे डबिंग कहते हैं

उस डबिंग की प्रक्रिया को
इन्ही वौइस् एक्टर के द्वारा कराया जाता है । डबिंग का मतलब होता सीन में डायलॉग के जगह अगर
शोरगुल की आवाजे माइक में कैप्चर हो गई है तो उसके जगह अलग से डायलॉग रिकॉर्ड कर के
वीडियो में एडिट कर दिया जाता है । आप आप सोच रहे होंगे की ऐसा कैसे संभव है भला कोई
एक्टर की आवाज कैसे निकाल सकता है तो ये संभव है इन्ही कला के इन्हे पैसे मिलते हैं बॉलीवुड में
काफी सारे ऐसे Voice actor हैं जो बड़े बड़े एक्टर के लिए डबिंग का काम करते है और है
उनकी आवाजे भी बिलकुल उस आर्टिस्ट से मैच करती है ।

Voice actors job in Animtion industry

वही तमिल तेलगु फिल्मे जो है वो हिंदी में रिलीज़ होती है वो भी डबिंग के
माध्यम से ही होता है और Voice actor का ही कमाल है जो
उतनी अच्छी-अच्छी फिल्मे आप अपने भाषा में देख पाते हैं ।
Voice actor का सबसे बड़ा कमाल तब देखने को मिलता जब आप
कोई एनिमेटेड फिल्म देखते हैं क्यों की एनिमेटेड फिल्म में कोई जीवित
कैरेक्टर नहीं होता है उसमे सबकुछ कंप्यूटर ग्राफ़िक्स इमेजनरी CGI होता है
लेकिन Voice actor उसमे अपने आवाज की मदद से उस कैरेक्टर में जान डाल देते हैं।
आपने अगर जंगल बुक देखा होगा तो आपको पता होगा की किस तरह से
Voice actor एक फिल्म को काफी खुबशुरत बनाते हैं और इस तरह की काफी
सारे एनिमेटेड फिल्मे हैं जो अलग अलग भाषा में डबिंग हुई हैं और रिलीज़ हुई हैं ।

Career as a dubbing Artist

अगर हम ऑपर्चुनिटी की बात करे तो वॉइस आर्टिस्ट या कहे Voice actor उसका फिल्म में
काफी डिमांड होता है । अभी वेब की दुनिया में हरेक फिल्म प्रोडूसर पुरे ग्लोबली
मार्केट को कवर करने के प्रयास में लगे रहते हैं और इसमें Voice actor का महत्पूर्ण रोल है।
फिल्म और टीवी की मार्केट बिस्तरित ही होते जा रही है तो फिल्मे अगर बनेगी तो उसे
अलग-अलग भाषा में रिलीज करने के लिए वॉइस-एक्टर की जरुरत पड़ेगी ही ।
अगर दूसरे फिल्ड की बात करे तो रेडिओ सबसे बरी सम्भावनाये हैं इन Voice actor
के लिए क्यों की रेडिओ की पूरी मार्केट आवाज के ऊपर ही होती है । Voice actor के लिए काफी
सम्भावनाये हैं मुख्य तो फिल्म है ही उसके अलावा कठपुतली शो ,
रेडिओ-ऑडियो प्रोग्राम , टेलीविजन प्रोग्राम ,रेडिओ ड्रामा ,ऑडियो बुक्स , डॉक्यूमेंट्री है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!