short filmmaking

short filmmaking in Hindi | Short film कैसे बनाये

Academy of Motion Picture Arts and Sciences के मुताबिक वैसी फिल्म जिसका अवधि
40 मिनट से कम हो वो Short film के केटेगरी में आता है |

काफी नए फिल्मकार जो फिल्ममेकिंग सीखना चाहते हैं वो Short film से ही
अपने करियर की शुरुआत करते हैं | चाहे वो नए डायरेक्टर , एक्टर, फिल्म एडिटर,
ये सभी शुरू में Short film में काम कर के अनुभव प्राप्त करते हैं |

see also

नए फ़िल्मकार और कलाकार को फिल्म के बारे में ज्यादा प्रैक्टिकल नोलेज नहीं होता
है तो वो Short film में काम कर के अपनी काबिलियत दिखाते हैं और वही Short film से
आगे चलकर बड़ी फिल्मो में काम पाने में मदद मिलता है |

सिर्फ नए फिल्मकार ही नहीं अब तो पुराने और अनुभवी फ़िल्मकार भी बिज़नेस
को बढ़ाने के लिए शॉर्ट फिल्म में भी अपना करियर बना रहे है | हर साल जितनी बड़ी
फिल्मे नहीं बनती है उससे कई गुना ज्यादा शॉर्ट फिल्म तैयार होती है |

Why short filmmaking Most Popular

Audience

शॉर्ट फिल्ममेकिंग सबसे ज्यादा प्रचलन में आने की मुख्य वजह निम्न है

short filmmaking का ज्यादा प्रचलन में आने की वजह ऑडियंस हैं | Short film ऑनलाइन
माध्यम से दर्शको को आसानी से उपलब्ध हो जाती है जिससे दर्शक घर बैठ कर अपने मोबाइल या
कंप्यूटर के मध्य से देख सकते हैं |

वही बड़ी फिल्मों को देखने के लिए दर्शक को थिएटर और सिनेमा हॉल में जाना परता है |

Free Aailable for Audience

बड़ी फिल्मों को देखने के लिए ऑडियंस को पैसे खर्च करने पड़ते हैं और वहीं शॉर्ट फिल्म
जिस भी प्लेटफार्म पे रिलीज़ होती है अक्सर फ्री ही होती है ऑडिएंस को
फिल्म देखने के कोई पैसे नहीं देने होते हैं|

Duration

फिल्म लोग सिर्फ और सिर्फ एंटरटेनमेंट के लिए देखते हैं | अब लोगो की जिंदगी इतनी
भाग दौर वाली हो गई है जहाँ सबसे ज्यादा समय का अभाव है | पर एंटरटेनमेंट भी जिंदगी
में बहुत जरूरी है | लोग जब ऑफिस से या घर के काम से थक के एंटरटेनमेन्ट के लिए
फिल्म देखते हैं तो उनके पास उतना समय नहीं होता है की वो बड़ी फिल्म जो 1-2 घंटे
की है उसको पूरी देख पाए |

वहीं Short film की बात करे तो 5 मिनट वाली शॉर्ट फिल्म भी एक कम्पलीट स्टोरी के साथ होती
है जो लोगो को कम समय में एक कहानी के माध्यम से एंटरटेनमेंट कर देती है |
वही अगर लोग कोई बड़ी फिल्म देखते है तो एक दिन में पूरा न कर दो या तीन दिन में पूरी कहानी
देख पाते हैं | अगर उतना भी समय नहीं मिला तो आधे अधूरा फिल्म देखा हुआ रहता है |

short filmmaking का आईडिया की उत्पत्ति भी लोगो के ब्यस्त जिंदगी और समय को देख कर
ही शुरू हुआ था | Short film बनाने का मकसद ही था कम समय में लोगो को एक पूरी कहानी
फिल्म के माध्यम से पहुंचना |

Why New Filmmaker Make a Short Film

Experience

नए फिल्मकार अक्सर Short film से ही अपने करियर की शुरुआत करते हैं | शॉर्ट फिल्म
में जितने भी कलाकार होते हैं और डायरेक्टर से लेकर प्रोडूसर तक सबको खुल कर
अपने टैलेंट दिखाने का मौका मिलता है |

जो नए एक्टर, डायरेक्टर, प्रोडूसर फिल्म इंडस्ट्री में काम की तलाश में जाते हैं तो सबसे पहले
उनका पिछले अनुभव पूछा जाता है की आपने कोई फिल्म किया है या नहीं |
अब जो लोग पहली बार फिल्म में काम ढूढ़ेगा वो पिछले किस काम का रिकॉर्ड दिखायेगा |
और लोग वही पर अटक जाते हैं | अब जिनके अंदर टैलेंट भी भरा हुआ है वो भी अनुभव न होने के
वजह से बड़ी फिल्म में जगह नहीं बना पाते हैं |

See Also :

वैसी स्थिति में Short film ही एक रास्ता बचता है जिसके मदद से नए आर्टिस्ट अपना डेमोरील तैयार
करते हैं और उसको पोर्टफोलियो के रूप में इस्तेमाल करते हैं | शरुआत में चाहे वो फिल्म राइटर हो या फिर
डायरेक्टर , एक्टर सभी को बड़ी फिल्मो में डायरेक्ट काम नहीं मिलता है |

Short film के मदद से उन्हें Filmmaking के सारे प्रोसेस पता चल जाता है और एक बेसिक
अनुभव हो जाता है की किस तरह से फिल्म इंडस्ट्री के अंदर काम करना है फिर काम ढूढ़ने
और काम पाने में भी आसानी होती है |

Budget

बजट Filmmaking का सबसे महत्वपूर्ण पार्ट होता है | फिल्म बजट का मतलब होता है
फिल्मकार जो फिल्म बना रहा है वो कितने रुपये के अंदर बन कर तैयार होगा |
अगर बड़ी बजट की फिल्मों की बात करें तो 100 करोड़ में फिल्मे बनती है कुछ फिल्में
जिसमे VFX काफी ज्यादा इस्तेमाल होता है उसका 500 करोड़ तक बजट चला जाता है |

अब जो नए फिल्ममेकर हैं उनके पास उतना बजट ही नहीं है की वो बड़ी फिल्म बना सके
वैसे में लोग Short film से पहले अपने क्रिएटिविटी को निखारते हैं फिर जब फिल्म के
सारे पार्ट का अच्छे से अनुभव हो जाता है तब धीरे-धीरे कॉमर्सिअल फिल्मों में अपना कदम
बढ़ाते हैं |

Short film की अगर बात करें तो ज्यादातर Short film बिना बजट के यानि शून्य बजट में
बनती है | ऐसे फिल्मों में एक्टर डायरेक्टर प्रोडूसर सभी नए होते हैं और वो अपने पोर्टफोलियो को
मजबूत करने के लिए एक दूसरे के मदद से शॉर्ट फिल्म तैयार करते हैं |

Short film कैसे बनाये

short filmmaking बनाने की प्रक्रिया भी बड़ी बजट की फिल्म के बनाने की प्रक्रिया जैसी ही होती है |
प्री-प्रोडक्शन, प्रोडक्शन और पोस्ट-प्रोडक्शन की प्रक्रिया सामान होती है |

See Also :

Select A Short Script

Short Script
Short Script

शॉर्ट फिल्म बनाने के लिए स्क्रिप्ट के चुनाव में काफी ध्यान देना चाहिए |

  • हमेशा छोटी कहानी वाला स्क्रिप्ट चुनना चाहिए |
  • स्क्रिप्ट में कम कैरेक्टर हो ये बहुत जरूरी है |
  • शॉर्ट फिल्म स्क्रिप्ट लिखने के समय बजट का ध्यान रखना बहुत जरूरी है |
  • स्क्रिप्ट एकदम अच्छी तरह से लिखा होना चाहिए |
  • अगर पहली बार शॉर्ट फिल्म बना रहे हैं तो ज्यादा सीरियस कहानी न चुने

Find Dedicated Cast & Crew

Short film बनाने के समय कास्टिंग अच्छा हो ये जरूर ध्यान रखना चाहिए | नए लोग को
फिल्म में लेकर काम करना कोई बुरी बात नहीं है लेकिन जो लोग काम करे वो पूरी तरह से फिल्म
और उस प्रोजेक्ट के लिए समर्पित होना चाहिए |

जबरदस्ती किसी को फिल्ममेकिंग में रखना जिसे फिल्ममेकिंग का बिलकुल भी कुछ पता नहीं
हो वो उस प्रोजेक्ट को नुकसान पंहुचा सकता है |
कास्टिंग में नजदीकी थिएटर ग्रुप से मदद ले सकते हैं | जो लोग थिएटर करते है वो एक्टिंग को
अच्छी तरह से समझते हैं |

वही अगर फिल्म क्रू की बात करे तो इसमें दोस्त , या परिवार के सदस्य को जोड़ कर के
फिल्म के बजट को कम कर सकते हैं |
फिल्म क्रू को स्पॉट बॉय भी बोला जाता है ये वो लोग होते हैं जो फिल्म सेट पे आर्टिस्ट और
डायरेक्टर के साथ मिलकर उनके कामो को आसान बनाते हैं |
कहीं सेट पे किसी चीज की जरूरत होती है तो फिल्म क्रू के सदस्य ही उस चीज को उपलब्ध करवाते हैं |

Scout for Filming Locations

Short Filmmaking में लोकेशन का खास ध्यान रखा जाता है |
अगर बजट कम है तो लोकेशन में अपने निजी संसाधनों का इस्तेमाल
कर सकते हैं |

वही अगर आउटडोर लोकेशन है तो उसमे वैसी जगह को चुन सकते हैं जहाँ
ज्यादा भीड़-भार नहीं हो और शूटिंग बिना अनुमति के किया जा सके |

Select A Camera

Short film

short filmmaking के समय कैमरा का चुनाव बजट को ध्यान में रखकर करें तो ज्यादा
बेहतर होगा |
अगर दोस्तों में किसी के पास अच्छा कैमरा हो और वो अच्छा सिनेमेटोग्राफर हो तो
वैसे लोग को प्रोजेक्ट में शामिल कर सकते हैं |

अगर कैमरा उपलब्ध नहीं होता है तो आज कल मोबाइल फ़ोन में भी इतने अच्छे कैमरा की
क्वालिटी होती है जिसके मदद से शॉर्ट फिल्म आसानी से बनाया जा सकता है | कैमरा उपलब्ध
न होने पे मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल कर सकते हैं |

Edit Your Film

video editing
film editing

फिल्म एडिटिंग में अगर फ्री कप्यूटर या लैपटॉप उपलब्ध हो जाता है तो आसानी
से फ्री वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर के मदद से अपने Short film को एडिट कर सकते हैं |

काफी सारे नए वीडियो एडिटर या फिल्म स्टूडेंट जो फिल्ममेकिंग सिख रहे होते हैं वो अपने
स्किल को और ज्यादा शार्प करने के लिए इस तरह के प्रोजेक्ट ढूढ़ते रहते हैं | तो ऐसे लोगो को
तलाश कर के उन्हें अपने प्रोजेक्ट में शामिल कर सकते हैं और Short film को एडिट कर सकते हैं |

अगर खुद के पास लैपटॉप या कंप्यूटर है तो काफी सारे फ्री वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर उपलब्ध है
जिसके मदद से आसानी से फिल्म एडिटिंग कर सकते हैं |

See Also :

Free Video Editing Software

Release Your Short Film

short filmmaking का एक सबसे बड़ी वजह है फिल्म फेस्टिवल |
काफी सारे बड़े फिल्मकार भी फिल्म फेस्टिवल्स के लिए शॉर्ट फिल्म बनाते हैं |

शॉर्ट फिल्म को या तो फिल्म फेस्टिवल्स में रिलीज कर सकते हैं या फिर ऑनलाइन
प्लेटफार्म पे रिलीज कर सकते हैं |
ऑनलाइन प्लेटफार्म में YouTube और Facebook दो ऐसे प्लेटफार्म हैं जहाँ से शॉर्ट फिल्म
को रिलीज कर के पैसा कमाया जाता है |

1 thought on “short filmmaking in Hindi | Short film कैसे बनाये”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close Bitnami banner
Bitnami