Post Production

Post production क्या है | Post production Process in Film

Post production kya hai

फिल्ममेकिंग में Post production प्रोसेस के अंदर फिल्म के ऑडियो और वीडियो क्लिप को एडिट
किया जाता है | फिल्म एडिटर सारे फुटेज को कहानी और इमोशन के हिसाब से एक साथ जोड़ता है फिर
उस वीडियो क्लिप को और ज्यादा रुचिकर बनाने के लिए उसमे बैकग्राउंड म्यूजिक जोड़ता है |
वीडियो में अगर कुछ VFX विजुअल इफेक्ट्स का इस्तेमाल करना हो तो वो भी Post production में ही
किया जाता है |

Post production से पहले क्या प्रोसेस होता है

फिल्ममेकिंग प्रोसेस में Post production प्रोसेस से पहले Preproduction और Production की
प्रक्रिया होती है |

Preproduction

प्री प्रोडक्शन प्रोसेस के अंदर फिल्म के शरुआती प्रक्रिया होती है इस प्रक्रिया में फिल्म के डेवेलोपमेंट, स्टोरी,
स्क्रिप्ट राइटिंग, बजट, लोकेशन,एक्टर और एक्ट्रेस की कास्टिंग ये सभी काम की जाती है |
प्री प्रोडक्शन में ही फाइनल हो जाता है की फिल्म की एक अनुमानित बजट क्या होगी , फिल्म किस प्लेटफार्म
के लिए बनेगी, फिल्म की रिलीजिंग की प्रक्रिया क्या होगी, फिल्म में कौन-कौन से एक्टर एक्ट्रेस मुख्य
किरदार में होंगे ये सारी चीजे प्री-प्रोडक्शन में ही होता है |

Production

फिल्ममेकिंग में प्री प्रोडक्शन के बाद प्रोडक्शन की प्रक्रिया होती है | प्रोडक्शन प्रक्रिया के अंदर फिल्म की शूटिंग
की प्रक्रिया होती है | शूटिंग से रिलेटेड जैसे फिल्म सेट बनाना, फिल्म के लिए जरुरी प्रॉप्स, कपडे, ये सभी सेट पे
उपलब्ध करवाना प्रोडक्शन का काम होता है |

Post production Process

पोस्ट प्रोडक्शन प्रोसेस में सबसे पहले वीडियो और ऑडियो क्लिप को एडिट किया जाता है| इसको
एडिटिंग प्रोसेस बोलते हैं |

Editing

सारे फुटेज को कहानी और इमोशन के हिसाब से एक साथ जोड़ता है फिर
उस वीडियो क्लिप को और ज्यादा रुचिकर बनाने के लिए उसमे बैकग्राउंड म्यूजिक जोड़ना एडिटिंग कहलाता है |

Video editing

जब फिल्म शूट होता है तो वो एक छोटे-छोटे क्लिप में होता है जिसको शॉट बोलते हैं | जिसमे कुछ बेकार के
शॉट भी होते है जिसको कट कर के हटाना होता है | कुछ शॉट डुप्लीकेट होता है जिसमे सबसे बेहतर और परफेक्ट
शॉट का चुनाव करना होता है | ये सभी प्रोसेस वीडियो एडिटिंग कहलाती है |
वीडियो एडिटिंग के लिए वीडियो एडिटिंग softwares का उपयोग किया जाता है सारे क्लिप को एक साथ
कहानी के और उसके इमोशन के हिसाब से एक सिक्वेन्स में जोड़ा जाता है |

Audio editing

फिल्म में कई तरह के ऑडियो का इस्तेमाल होता है | बैकग्राउंड म्यूजिक, डायलॉग , साउंड इफेक्ट्स ,
ये सभी चीजे एक साथ ऑडियो में इस्तेमाल करना ऑडियो एडिटिंग कहलाता है |

डायलॉग – फिल्म में एक्टर या एक्ट्रेस क्या बोल रहा है वो डायलॉग कहलाता है | डायलॉग या तो सेट पे रिकॉर्ड कर के
उसी ऑडियो क्लिप को अच्छे से नॉइज़ हटा के इस्तेमाल किया जाता है या फिर डायलॉग की डबिंग कराई जाती
है जिसके लिए एक डबिंग स्टूडियो रेंट पे लिए जाता है |

बैकग्राउंड म्यूजिक – फिल्म में जब कोई सीन दीखता है तो डायलॉग के अलावा एक और साउंड सुनाई देता है जो
उस फिल्म के मूड को क्रिएट करता है | उसको बैकग्राउंड म्यूजिक बोलते हैं | बैकग्राउंड म्यूजिक सीन के
हिसाब से तैयार किया जाता है ताकि वो सीन ऑडिएंस के इमोशन से जुड़ सके |
बैकग्राउंड म्यूजिक तैयार करने के लिए बैकग्राउंड म्यूजिक आर्टिस्ट होता है वो अपने इंस्ट्रूमेंट से इस तरह के ऑडियो
तैयार कर के देता है |

साउंड इफेक्ट्स – फिल्म कैरेक्टर के चलने की आवाज, गोली चलने की आवाज, झरना की आवाज, ब्लास्ट
की आवाज और भी कई तरह के एक्शन फिल्म होते हैं जिसकी आवाजें हमें सुनाई देती है इसी को |
साउंड इफेक्ट्स कहते हैं साउंड इफेक्ट्स को जो क्रिएट करता है उसे साउंड इफेक्ट्स आर्टिस्ट या Foley
आर्टिस्ट बोलते हैं | साउंड इफेक्ट्स आर्टिस्ट सीन के हिसाब से तरह तरह के साउंड क्रिएट करता है और
फिर सब को जोड़ कर एक क्लिप में ऐड करता है | साउंड इफेक्ट्स को तैयार करने के लिए अलग-अलग
तरह के प्रॉप्स का इस्तेमाल किया जाता है |

Sound Mixing

जब सभी साउंड जैसे डायलॉग , बक्ग्रौंद म्यूजिक और साउंड इफेक्ट्स तैयार हो जाता है तो उसको
एक साथ जोड़ कर एक क्लिप बनाने की प्रक्रिया को मिक्सिंग कहते हैं | साउंड ज्यादा तीव्र न हो,
या फिर साउंड ज्यादा काम न हो ये चीज को ध्यान रखना होता है और उसको एडिटिंग करना
मिक्सिंग कहलाता है |

VFX visual effects

VFX भी Post production की एक प्रक्रिया है जिसके अंदर किसी सीन को और ज्यादा बेहतर बनाने के लिए
विजुअल इफेक्ट्स का इस्तेमाल किया जाता है | फिल्म में बैककग्रॉउंड हटाना हो और वहां पे कोई
कंप्यूटर जनरेटेड इमेजरी बैकग्राउंड का इस्तेमाल करना हो तो वो visual effects के मदद से किया जाता है |

visual effects के मदद से ब्लास्ट,आग,धुँआ,और भी दूसरे तरह के इफेक्ट्स तैयार किया
जा सकता है | फिल्म में अगर ग्रीन स्क्रीन का इस्तेमाल होता है तो उसको भी VFX Software की मदद से हटाया जाता है |

Color Grading

कलर ग्रेडिंग फिल्ममेकिंग की एक प्रक्रिया है जो Post production प्रोसेस के अंदर और सबसे अंत में
होता है इसमें फिल्म के फुटेज के ब्राइटनेस, कंट्रास्ट, कलर, ये सभी को ठीक किया जाट है और फिर
फिल्म लुक तैयार किया जाता है | फिल्म लुक में फिल्म के कहानी और इमोशन के हिसाब से क्रिएट
किया जाता है |

Graphics

फिल्म का टाइटल, और क्रेडिट ग्राफ़िक्स के मदद से डाला जाता है |

Post production Department

पोस्ट प्रोडक्शन डिपार्टमेंट के अंदर जो लोग होते हैं उन्हें Post production आर्टिस्ट बोला जाता है | पोस्ट प्रोडक्शन
में फिल्म डायरेक्टर भी रहता है | पूरी Post production की प्रक्रिया फिल्म निर्देशक के देख रेख में होती है |

  • Film Director
  • video editor
  • Audio mixer
  • sound effects artist
  • VFX Artist
  • colorist
  • graphic designer

Post production Software

पोस्ट प्रोडक्शन में अलग-अलग कामों के लिए अलग-अलग सॉफ्टवेयर इस्तेमाल होता है |

Video editing Software

  • Adobe Premiere Pro
  • Final Cut Pro
  • DaVinci Resolve
  • Media Composer

Audio Editing Software

  • Adobe Audition
  • Audacity
  • Ableton Live
  • GarageBand
  • FL Studio
  • Logic Pro X
  • WavePad

VFX Software

Color Grading Software

  • Baselight
  • DaVinci Resolve

Post production kya hai Topic End

Related :

प्री–प्रोडक्शन क्या है
प्रोडक्शन प्रोसेस क्या है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!