Special effect

Special effect स्पेशल इफ़ेक्ट क्या है ? इसका फिल्म में किस प्रकार से प्रयोग होता है ?

Special effect एक विजुअल ट्रिक है जिसके मदद से फिल्म,टेलीविजन,थिएटर,
और वीडियो गेम इंडस्ट्री में virtual world और कैरक्टर तैयार किया जाता है |
Special effect को SFX, SPFX, F/X और FX भी बोला जाता है |

Types Of Special effect

Special effect की दो कैटेगरी होती है-

  • Mechanical effects
  • Optical effects

Mechanical effects :

Special Effect
Mechanical effects मिनिएचर


मैकेनिकल इफेक्ट्स को प्रैक्टिकल इफेक्ट्स याफिजिकल इफेक्ट्स भी
बोला जाता है | इसका लाइव एक्शन शूटिंग में प्रॉप्स,मिनिएचर,पाइरो-तकनीक,
या फिर यांत्रिक मशीन के मदद से Special effect तैयार किया जाता है |
जैसे:- हवा,वर्षा,तूफ़ान,कोहरा,बदल,किसी बिल्डिंग को ध्वस्त होते
हुए दिखाना ये सारी चीजे Mechanical effects के अंदर आता है |
प्रोस्थेटिक मेकअप भी मैकेनिकल इफेक्ट्स में शामिल है |

Optical effects :

Special Effect
Optical effects

ऑप्टिकल इफेक्ट्स को फोटोग्राफिक इफेक्ट्स भी बोला जाता है |
ऑप्टिकल इफेक्ट्स फोटोग्राफ के मदद से तैयार किया जाता है, जैसे किसी एक्टर को
अगर अलग बैकग्राउंड में डालना हो तो वहाँ पे इस तकनीक का इस्तेमाल होता है |
इस तकनीक में या तो कैमरा का प्रयोग कर matte तैयार कर किया जाता है या फिर CGI तकनीक का प्रयोग होता है |

डिजिटल फिल्ममेकिंग आने के बाद Special effect तकनीक में computer-generated imagery
(CGI)
सबसे ज्यादा चलन में आया | इसकी सबसे बड़ी वजह है फिल्मकार को CGI तकनीक में
ज्यादा कंट्रोल मिलता है और ये कंप्यूटर से तैयार होता है इसी लिए सुरक्षित भी है |
CGI तकनीक में कम लागत में उच्च स्तर के आउटपुट मिलती है जिसके चलते
CGI का ज्यादा इस्तेमाल होता है|

prosthetic makeup

Special effect में मैकेनिकल कैटेगरी का एक तकनीक इस्तेमाल होता है वो
है प्रोस्थेटिक मेकअप|

प्रस्थेटिक मेकअप का इस्तेमाल किसी फिल्म में human creature राक्षस, या
फिर आदिमानव या zombie ज़ोंबी कैरेक्टर बनाने में किया जाता है | इस तकनीक में
आर्टिफीसियल केमिकल और मटेरियल का इस्तेमाल कर के ह्यूमन बॉडी और
फेस पे मेकअप कर के इस तरह के कैरेक्टर बनाये जाते हैं|

Special Effect
Special Effect(Prosthetic makeup)

वैसे तो CGI तकनीक
से भी कैरेक्टर बनाये जा सकते हैं पर वहां पे रीयलिस्टिक एनीमेशन करने के लिए
मोशन कैप्चर तकनीक का प्रयोग किया जाता है जो की काफी लगत वाली होती है| वहीं
मैकेनिकल Special effect के मदद से तैयार किये गए कैरेक्टर के अभिनय में
रीयलिस्टिक फील आसानी से आ जाता है | इसमें एक्टर के ऊपर मेकअप कर के
फिर डायरेक्ट शूट कर लिया जाता है |

Vfx in Hollywood
CGI तकनीक

Education And Training Special effect

काफी सारे इंस्टीटूशन्स हैं जो Special effect के ऑनलाइन और ऑफलाइन डिग्री कोर्स
उपलब्ध करवाते हैं | Special effect आर्टिस्ट के लिए कई तरह के सॉफ्टवेयर और
तकनीक के बारे ट्रेनिंग दी जाती है और ये ट्रेनिंग जरूरी है बिना ट्रेनिंग के स्किल डेवलप
नहीं किया जा सकता है |
कई इंस्टिट्यूट फिल्ममेकिंग के डिग्री कोर्स में भी Special effect की ट्रेनिंग उपलब्ध करवाते
है और कई इसके लिए अलग से कोर्स करवाते है जिसमे मैकेनिकल और ऑप्टिकल दोनों तरह के Special
effect की ट्रेनिंग दी जाती है |

Career And Opportunity

फिल्म में विजुअल इफेक्ट्स या Special effect का इस्तेमाल काफी ज्यादा होता है ऐसे
में Special effect आर्टिस्ट का डिमांड बहुत ज्यादा होता है | CGI में काफी सारे डिपार्टमेंट
होते हैं उन सब डिपार्टमेंट के लिए अलग-अलग पोस्ट पे आर्टिस्ट का मांग होता है |
तो इसमें करियर बनाने के लिए काफी ऑपर्चुनिटी है | कहीं से ऑनलाइन या ऑफलाइन
ट्रेनिंग लेकर एक अच्छा सा पोर्टफोलियो तैयार कर के करियर की शुरुआत कर सकते हैं |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!